DNS server क्या और कैसे काम करता जाने इंटरनेट इन

DNS server क्या और कैसे काम करता जाने इंटरनेट इन  

जानिए कि DNS सर्वर क्या काम करता है और इंटरनेट, डोमेन नेम सर्वर, DNS कैसे काम करता है, DNS सर्वर का यूज़ इंटरनेट या अपने प्राइवेट नेटवर्क्स पर कर सकते हैं। पूरी तरह से योग्य डोमेन नाम,DNS server works and how Internet.puri jankari hindi me IP addres kay hei.
हेलो दोस्तों नमस्कार आपका इंटरनेट इन इंडिया में स्वागत है दोस्तों आज काम अपने टॉपिक में जनते है की DNS server क्या है जी आप हमारी पोस्ट को पूरा पढिये आपको काफी ज्ञान बर्धक होगी आप DNS server के बारे में जान जायेगे। 

DNS server क्या और कैसे काम करता जाने इंटरनेट इन


जैसे की दोस्तों आप हमारी पोस्ट पड़ रहे है तो आप जानते है की इंटरनेट के माध्यम से कहा से आ रही है।चलिए इस post में हम जानते हैं। DNS इसके बारे में मान लीजिए हमारा एक नेटवर्क है जिसमें बहुत सारे पीसी आपस में कनेक्टेड है। इन पीस इसके ऊपर हमने IP  ऐड्रेस कनेक्ट कर रखा है। ताकि यह आपस में कॉमिकएट कर सके। और जब एक कंप्यूटर तो दूसरे कंप्यूटर से किसी डाटा यह सर्विस की जरूरत हो ,तो हम इस आईपी ऐड्रेस को यूज करके उसे एक्सेस कर सकते हैं।

  • DNS In Hindi

हमारे कंप्यूटर सिस्टम नंबर्स में डील करते हैं यानी के जीरो और उनके फॉर्मेट में लेकिन हम ही उसको चीजों को उनके नंबर से याद रखना एक हद तक तो ठीक है। लेकिन इसकी अपनी लिमिटेशन है। लेकिन हम इन चीजों के नाम आसानी से याद रह जाते हैं. तो हम इन कंप्यूटर्स को कुछ लॉजिकल नेम दे देते हैं ताकि इन कंप्यूटर को उनके नाम से भी सर्च करवाया जा सके।

#घर बैठे गूगल ऐडसेंस अकाउंट कैसे बनाये आल स्टेप हिंदी

इसी तरीके से आपके कंप्यूटर या आप जब घर में बैठे इंटरनेट एक्सेस कर रहे होते हैं तब इंटरनेट पर पड़ी हुई वेबसाइट पे जिसको आप नाम से ही सर्च करवाते हैं। ना कि उनके IP से  लेकिन इंटरनेट पर पड़े हुए उनका भी कोई ना कोई आईपी ऐड्रेस होता है इन चीजों का ध्यान कौन रखता है तो यहीं से DNS server का काम स्टार्ट होता है। 

  • Domain Name Server

DNS server डोमेन नेम सिस्टम का जाता है। जिसके नाम में ही नेम सिस्टम सर्विस करता है। नेम से किया जाता है यानी के नेम टू आईपी और आपको किसी कंप्यूटर वेबसाइट का नाम पता है आपको उसका एड्रेस जानने की जरूरत नहीं है। जैसे कि एक कंप्यूटर है या वेब सर्वर है जिसके ऊपर वेबसाइट पोस्टेड है। उसको उसके एडमिट एक नाम दिया हुआ है। और इस नाम की एंट्री उसके एड्रेस के साथ उन्होंने DNS server करवा रखी है। जैसे आप उस web-server को को उसके नाम से सर्च करेंगे तो बैकग्राउंड में डीएसक्वेरी को सॉल्व करेगा। 

  • DNS How It Works

DNS उस नाम को उस कंप्यूटर के वेब सर्वर आईपी ऐड्रेस ट्रांसलेट करेगा और आपको डायरेक्टली वेब सर्वर से कनेक्ट कर देगा। यह पता है यार इनके उन्हें कभी भी यह जानने की जरूरत नहीं रहती है। इस कंप्यूटर का क्या एड्रेस है। या दूसरे शब्दों में कहें कि अगर हमें किसी कंप्यूटर का नाम पता है तो डीएनए उसका एड्रेस पता लगाने में हमारी हेल्प करता है। या फिर बिल्कुल उलटा अगर हमें उसका एड्रेस मालूम है तो उसके नाम का पता लगाया जा सकता है।

और पढ़े –

#इंटरनेट पर डीएनएस सर्वर आईपी एड्रेस कैसे काम करता है

DNS  के काम आता है यानी कि ट्रांसलेशन ट्रांसलेशन इसे समझने के लिए सबसे आसान तरीका है। फोन बुक जैसे कि आपके मोबाइल फोन में आप एक फोन बुक जिसमें आपके फ्रेंड का नाम आप ऐड करते हैं। और उस नाम के साथ उनका फोन नंबर आप उसमें सेव कर लेते हैं। तो आपको अपने एक एक दोस्त या रिश्तेदार के फोन नंबर को याद रखने की जरूरत नहीं  है। 

आप अपनी फोनबुक से उसका नाम सर्च करते हैं और उसे कॉल कर देते हैं। बैकग्राउंड में आपका मोबाइल फोन उस नाम को आपके दोस्त के फोन नंबर के साथ ट्रांसलेट कर देता है। और आपकी कॉल कनेक्टिविटी आपके दोस्त के साथ एस्टेब्लिश कर देता है। बिल्कुल इसी तरीके से डीएनए कंप्यूटरनेम को उनके ट्रांसलेट कर देता है। और DNS  का नंबर यूज करता है। बिलकुल वैसे ही जैसे दिखता है। 

DNS server का यूज़ ऑफ इंटरनेट या अपने प्राइवेट नेटवर्क्स पर कर सकते हैं। आज के दिन में विदाउट डीएनए इंटरनेट की कल्पना भी नहीं की जा सकती आप सोच भी नहीं सकते कि बिना DNS  के इंटरनेट वर्क कर सकता है। क्योंकि बिना डीएनएस  के आपको एक एक वेबसाइट या वेब सर्वर का आईपी ऐड्रेस याद रखना होगा। और दुनिया में कितने साइड से कितने बिजनेसेस हैं। उन सबके आईपी एड्रेसेस याद रखने अपने आप में एक मुश्किल काम है। लेकिन आप सिंपली उन वेब सर्वर को चाहे वह सिस्को का और चाहे वह माइक्रोसॉफ्ट का गूगल हो उसको उसके नाम से आसानी से सर्च करवा देते हैं।

  • Fully Qualified Domain Name

डीएनएस  बैकग्राउंड में उस नाम को उनके ट्रांसलेट कर देता है DNS  के लिए फाइल को यूज किया जाता था और मीटिंग में भी आपको यह फाइल देखने को मिल जाती है. इस फाइल को एक रखा जाता था जिसे आज फ्री इंटरनेशनल कहा जाता है। वहां पर रखे हुए कंप्यूटर कोर्स किया जाता था। और कंप्यूटर या उसको यह फाइल डाउनलोड करनी होती थी। लेकिन इस फाइल की कुछ लिमिटेशंस जैसे कि इसमें और दूसरी बात था और को एक लिमिट के बाद मैनेज करना बहुत ही मुश्किल हो जाता है। इसलिए इसका कोई ढूंढ जाने लगा और इसके अल्टरनेट के रूप में डीएनएस  में आया डीएनएस को यूज करता है।

और पढ़े –

#डोमेन और वेबसाइट की पहचान एवं अंतर क्या है?

 डोमेन paribhasha शीर्ष डोमेन नाम हिंदी में जनाकारी

दोस्तों आपने हमारी पोस्ट में DNS server क्या और कैसे काम करता जाने इंटरनेट इन S के बारे में जाना आप हमे कमेंट के माध्यम से कुछ सुझाव दे सकते है। 

2 thoughts on “DNS server क्या और कैसे काम करता जाने इंटरनेट इन”

  1. Pingback: ब्लॉगर पर ब्लॉग कैसे बनता है इंटरनेट इन हिंदी - Internet In India

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *